अपने आप को जानना सीखें !

Posted on by

Inspirational Hindi Articleलोग दुनिया को जानने की बात तो करते हैं, पर स्वयं को नहीं जानते. जानते ही नहीं, बल्कि जानना ही नहीं चाहते. खुद को जानना ही दुनिया की सबसे बड़ी नियामत है. जो खुद को नहीं जानता, वह भला दूसरों को कैसे जानेगा? दूसरों को भी जानने के लिए पहले खुद को जानना आवश्यक है. इसलिए बड़े महानुभाव गलत नहीं कह गए हैं कि जानने की शुरुआत खुद से करो.

एक महात्मा का द्वार किसी ने खटखटाया. महात्मा ने पूछा-कौन? उत्तर देने वाले ने अपना नाम बताया. महात्मा ने फिर पूछा कि क्यों आए हो? उत्तर मिला- खुद को जानने आया हूँ. महात्मा ने कहा-तुम ज्ञानी हो, तुम्हें ज्ञान की आवश्यकता नहीं. ऐसा कई लोगों के साथ हुआ. लोगों के मन में महात्मा के प्रति नाराजगी छाने लगी. एक बार एक व्यक्ति ने महात्मा का द्वार खटखटाया- महात्मा ने पूछा-कौन? उत्तर मिला-यही तो जानने आया हूँ कि मैं कौन हूँ. महात्मा ने कहा-चले आओ, तुम ही वह अज्ञानी हो, जिसे ज्ञान की आवश्यकता है? बाकी तो सब ज्ञानी थे.

इस तरह से शुरू होती है, जीवन की यात्रा. अपने आप को जानना बहुत आवश्यक है. जो खुद को नहीं जानता, वह किसी को भी जानने का दावा नहीं कर सकता. लोग झगड़ते हैं और कहते हैं- तू मुझे नहीं जानता कि मैं क्या-क्या कर सकता हूँ. इसके जवाब में सामने वाला भी यही कहता है. वास्तव में वे दोनों ही खुद को नहीं जानते. इसलिए ऐसा कहते हैं. आपने कभी जानने की कोशिश की कि खुदा और खुद में ज्यादा फ़र्क नहीं है. जिसने खुद को जान लिया, उसने खुदा को जान लिया. पुराणों में भी कहा गया है कि ईश्वर हमारे ही भीतर है. उसे ढूँढ़ने की कोई आवश्यकता नहीं.

सवाल यह उठता है कि अपने आप को जाना कैसे जाए? सवाल कठिन है, पर उतना कठिन नहीं, जितना हम सोचते हैंे. ज़िंदगी में कई पल ऐसे आएँ होंगे, जब हमने अपने आप को मुसीबतों से घिरा पाया होगा. इन क्षणों में समाधान तो क्या दूर-दूर तक शांति भी दिखाई नहीं देती. यही क्षण होता है, खुद को पहचानने का. इंसान के लिए हर पल परीक्षा की घड़ी होती है. परेशानियाँ मनुष्य के भीतर की शक्तियों को पहचानने के लिए ही आती हैं. मुसीबतों के उन पलों को याद करें, तो आप पाएँगे कि आपने किस तरह उसका सामना किया था. एक-एक पल भारी पड़ रहा था. लेकिन आप उससे उबर गए. आज उन क्षणों को याद करते हुए शायद सिहर जाएँ. पर उस वक्त तो आप एक कुशल योद्धा थे, जिसने अपने पराक्रम से वह युद्ध जीत लिया.

वास्तव में मुसीबतें एक शेर की तरह होती हैं, जिसकी पूँछ में समाधान लटका होता है. लेकिन हम शेर की दहाड़ से ही इतने आतंकित हो जाते हैं कि समाधान की तरफ हमारा ध्यान ही नहीं जाता. लेकिन धीरे से जब हम यह सोचें कि अगर हम जीवित हैं, तो उसके पीछे कुछ न कुछ कारण है. यदि शेर ने हमें जीवित छोड़ दिया, तो निश्चित ही हमारे जीवन का कोई और उद्देश्य है. उस समय यदि हम शांति से उन परिस्थितियों को जानने का प्रयास करें, तो हम पाएँगे कि हमने उन क्षणों का साहस से मुकाबला किया. यही से हमें प्राप्त होता है आत्मबल और शुरू होता है खुद को जानने का सिलसिला.
हम याद करें उन पलों के साहस को. कैसी सूझबूझ का परिचय दिया था हमने. आज भी यदि मुसीबतें हमारे सामने आईं हैं, तो यह जान लीजिए कि वह हमें किसी परीक्षा के लिए तैयार करने के लिए आईं हैं. हमें उस परीक्षा में शामिल होना ही है. यानी खुद की शक्ति को पहचान कर हमें आगे बढ़ना है. जीवन इसी तरह आगे बढ़ता है.

यह बात हमेशा याद रखें कि जिसने परीक्षा में अधिक अंक लाएँ हैं, उन्हें और परीक्षाओं के लिए तैयार रहना है. जो फेल हो गए, उनके लिए कैसी परीक्षा और काहे की परीक्षा? याद रखें मेहनत का अंत केवल सफलता नहीं है, बल्कि सफलता के बाद एक और कड़ी मेहनत के लिए तैयार होना है. बस..

dr_mahesh_parimalडा. महेश परिमल

संक्षिप्त परिचय : छत्तीसगढ़ की सौंधी माटी में जन्मे महेश परमार ‘परिमल’ मूलत: एक लेखक हैं। बचपन से ही पढ़ने के शौक ने युवावस्था में लेखक बना दिया। आजीविका के रूप में पत्रकारिता को अपनाने के बाद लेखनकार्य जीवंत हो उठा। एक ऐसा व्यक्तित्व जिसके सपने कभी उसकी पलकों में कैद नहीं हुए, बल्कि पलकों पर तैरते रहे और तैरते-तैरते किनारों को अपनी एक पहचान दे ही दी। आज लेखन की दुनिया का इनका भी एक जाना-पहचाना नाम है।

भाषाविज्ञान में पी-एच.डी. का गौरव प्राप्त। अब तक सम-सामयिक विषयों पर एक हजार से अधिक आलेखों का प्रकाशन। आकाशवाणी के लिए फीचर-लेखन, दूरदर्शन के कई समीक्षात्मक कार्यक्रमों की सहभागिता। पाठच्यपुस्तक लेखन में भाषा विशेषज्ञ के रूप में शामिल। विश्वविद्याल स्तर पर अंशकालीन अध्यापन। अब तक दो किताबों का प्रकाशन। पहली ‘लिखो पाती प्यार भरी’ को मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी द्वारा दुष्यंत कुमार स्मृति पुरस्कार, दूसरी किताब ‘अनदेखा सच’ को पाठकों ने विशेष रूप से सराहा।

सम्पर्क:- parimalmahesh@gmail.com
मोबाइल नम्बर- 09977276257

———————————————–

We are very grateful to Dr. Mahesh Parimal for sharing this inspirational article with AKC readers.

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:achhikhabar@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

Speed Breakers Vs Life Obstacles

Posted on by

Friends, क्या होता है जब आप smoothly अपनी गाड़ी चला रहे होते हैं और अचानक ही एक speed breaker आपके सामने आ जाता है ?

Motivational Hindi Articleतब आप क्या करते हैं ?

क्या आप अपनी गाडी वहीँ रोक देते हैं और आगे बढ़ना छोड़ देते हैं ?

नहीं ! आप तो बस गाडी थोड़ी धीमी कर लेते हैं और breaker बीत जाने के बाद धीरे -धीरे अपनी speed बढ़ाने लगते हैं . Isn’t it ?

गाड़ी के मामले में हम सब यही करते हैं , पर जब अपने goals achieve करने की बात आती है , life में successful बनने की बात आती है तब लोग काफी differently behave करते हैं .

बहुत से लोग अपने लक्ष्य के मार्ग में आने वाले obstacles को स्पीड ब्रेकर्स के रूप में ना देख एक ऐसा dead end समझ लेते हैं , जहाँ से आगे नहीं बढ़ा जा सकता ; और फिर वे अपने सारे efforts छोड़ देते हैं !

पर roads पर आने वाले speed breakers और life में आने वाले obstacles में कई similarities हैं ,और ये समानताएं हमें सीखाती हैं कि जैसे ब्रेकर आने पर हम रोड पर नहीं रुकते वैसे ही लाइफ में प्रोब्लेम्स आने पर भी हमे रुकना नहीं चाहिए।  आइये इनपे थोड़ा गौर करते हैं :

दोनों आने ही आने हैं :

ना हम बिना speed breakers के रोड पर चल सकते हैं और ना ही बिना ऑब्स्टैकल्स के life जी जा सकती है … ऐसा एक भी सफल इंसान नहीं मिलेगा जो आपको ये कहे कि वो बिना बाधाओं के ही सफल हो गया . इसलिए इस बात के लिए mentally prepared रहने में ही समझदारी है की goals achieve करने के efforts में रुकावटों का सामना करना ही पड़ता है .

दोनों ही important हैं :

अगर speed breakers न हों तो uncontrolled speed की वजह से बहुत से accidents हो सकते हैं ; उसी तरह life में आने वाली obstacles हमें गहराई से सोचने और समस्याओं का समाधान ढूंढने में expert बनाती हैं .

किसी ने कहा भी है कि किसी की सफलता इससे नहीं आंकी जानी चाहिए कि उसने लाइफ में क्या पोजीशन हासिल की बल्कि इससे आंकी जानी चाहिए की उसने इसे हासिल करने में कितनी बाधाएं पार की।

दोनों temporary हैं :

कोई रोड ऐसी नहीं होती कि जिसपे सिर्फ speed breakers ही हों , और न ही success का कोई रास्ता ऐसा होता है जिस पर सिर्फ बाधायें ही बाधाएं हों … ब्रेकर्स और बाधाएं दोनों ही temporary होते हैं , आते हैं , कुछ देर के लिए हमें प्रभावित करते हैं और फिर चले जाते हैं। पर अगर कोई इन्हे temporary ना मान कर permanent समझ ले तो वो success से दूर ही रह जाता है .

दोनों से निपटने के लिए आप कुछ अलग करते हैं :

पहले आप smoothly अपनी गाड़ी चला रहे होते हैं पर जब speed breaker आता है तो आप गाडी का acceleration कम करते हैं और break लगाते हैं …. ठीक इसी तरह जब life में obstacles आते हैं तो इनसे निपटने के लिए आपको कुछ अलग करना होता है , ज़रा सोचिये अगर driver breaker आने पर भी वही करता रहे जो वो कर रहा था तो क्या होगा …. उसे झटका लगेगा , और अगर speed अधिक है तो accident भी हो सकता है . Life में आने वाली problems से deal करने के लिए हमें कुछ अलग करना होता है . Obstacles हमारे normal course से एक deviation है और उससे निकलने के लिए हमे अपने approach …अपनी technique में भी changes लाने पड़ते हैं।

ज़रूरी नहीं कि वो दिखाई दें :

कई बार speed breaker का पता तब लगता है जब हम उसपर से गुजर चुके होते हैं , उसी तरह कई बार problems तभी समझ में आती हैं जब वे हमें नुक्सान पहुंचा चुकी होती हैं . ऐसे cases में हम बीते हुए को नहीं बदल सकते पर definitely हम आगे के लिए सावधान हो सकते हैं .

दोनों के कई forms होते हैं :

जैसे सारे स्पीड ब्रेकर्स एक जैसे नहीं होते , कोई कम bumpy होता हैतो कोई ज्यादा , उसी तरह लाइफ में आने वाली प्रोब्लेम्स भी अलग-अलग तरह की होती हैं। कुछ आसानी से solve हो जाती हैं तो कुछ बहुत समय लेती हैं। पर ये निश्चित है की अगर हम एफ्फोर्ट्स डालते रहें तो आज नहीं तो कल उनका solution मिल ही जाता है।

दोनों ही experience के बाद आसान बन जाते हैं :

जब आप एक ही रास्ते से बार -बार जाते हैं तो subconsciously उस रास्ते का map आपके mind में तैयार हो जाता है , आप ब्रेकर आने से पहले ही जान जाते हैं की वो आने वाला है और accordingly अपनी speed adjust कर लेते हैं . Life में भी जब आप किसी obstacle से पार पा लेते हैं तो आपके mind में उससे या उस जैसी problems से निपटने का blue print तैयार हो जाता है और next time वैसी ही समस्या आने पर आप आसानी से उसे solve कर लेते हैं .

Friends, आपने अपनी life के लिए जो भी goals set किये हैं उन्हें जी -जान से pursue कीजिये और इस बात के लिए तैयार रहिये कि उनके पूरा होने में तमाम बाधाएं आएँगी पर वे सभी road पे आने वाले speed breakers की तरह ही होंगी जो एक बार को आपकी speed कम तो कर सकती हैं पर आपको अपना सपना पूरा करने से रोक नहीं सकतीं.

All the best ! :)

———————

यदि आपके पास कोई Hindi  article,  inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ   share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:achhikhabar@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!