इदुलजुहा या बकरीद क्यों मनाते हैं?

Posted on by

HAPPY BAKRID

इदुलजुहा या बकरीद क्यों मनाते हैं?

Eid-ul Adha का अर्थ है – Festival of sacrifice यानि बलिदान का पर्व.

वैसे बकर-ईद में बकर का मतलब बकरे से नहीं होता. अरबियन में बकर का अर्थ होता है camel.
Prophet Ibrahim को Khalil’ullah के नाम से भी जाना जाता हा, जिसका मतलब है “Friend of Allah”

एक बार अल्लाह ने हज़रत इब्राहीम का इम्तेहान लेने के लिए उनसे अपनी सबसे प्यारी चीज कुर्बान करने को कहा. तब हजरत इब्राहीम ने अपने अजीज बेटे इस्माइल को अल्लाह के नाम पे कुर्बान करने का फैसला किया. उनका बेटा भी इस काम के लिए ख़ुशी-ख़ुशी तैयार हो गया.जब वो कुर्बानी देने ही वाले थे तब अल्लाह ने उन्हें बताया की वो तो बस उनका इम्तेहान ले रहे थे और वो अपने बेटे की जगह एक भेंड (male sheep) को कुर्बान कर सकते हैं. तभी से बकरीद मनाने की शुरुआत हुई.यह हर साल Muslim Month जुल-हिज्जा के दसवें दिन मनाया जाता है .

——————————————————–

नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें.

4 thoughts on “इदुलजुहा या बकरीद क्यों मनाते हैं?

  1. noorul hasan

    hazrat Ibrahim ne jab socha ki mere paas kurbaan karne ke liye sabse kimti cheej kya hi to unhe pata chala ki dolat to koi matlab nahi rakti …… Tab unhone aapne bete ko dekha aur kaha meri jindgi me sabse kimti tum ho…..
    hazrat Ibrahim jab apne bete ismail ko lekar pahar ki or nikle aur jab unhone aapne bete ko ye bataya ki vo use kurban karne ke liye leja rahe hi…. to bete ismail ne kaha “agar allah chahta hi ki vo aapko di hui sabse kimti cheez wapas le le to me uske liye razi hu”
    Magar ismail se ye shart rakhi ki…. pahle aap
    (1) apni aakho par patti bandh lijiye taki aapko muzse payar ki wajah se taklif hogi…
    (2) aap apni chaku ki dhaar tej kar le taaki me aasani se kut jaau
    JAB hazrat ibrahim ne aapni aakho par paati bandh kar ibrahim ke uupar chaku chalai aau jab aakho se paati hatai to dekha ki ismail to baju me hi..aur unhone aapne bete par nahi balki allah ki taraf se bheje gaye “bakre” par churi chalai hi….. to unhone kaha khuda par muje bharosa tha ki vo mere bete ko mujse nahi chinega…… ye HAZRAT ibraheem ki Allah par bharose ko pata karne ke liye liya gaya imtehaan tha..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>