Suicide करना है तो हमेशा के लिए करो-Osho

Posted on by

 

Don't commit an ordinary suicide

Hi friends,

कुछ दिनों पहले मुझे एक mail आई जिसे लिखने वाले ने अपनी ज़िन्दगी ख़तम करने के बारे में लिखा था. मैंने उसे अपने विचारों से समझाने की कोशिश की थी, पर पता नहीं उसे वो बात समझ आई की नहीं. पर आज जो बाते मैं आपसे share कर रहा हूँ वो किसी के समझ में आने की संभावना कहीं अधिक हैं. दरअसल ये बातें OSHO द्वारा कही गयीं है. ऐसा बातें उन्होंने एक व्यक्ति के आत्महत्या करने की इच्छा व्यक्त करने के उत्तर में कही थीं.

मेरा आपसे अनुरोध है कि अगर आपको ऐसे किसी व्यक्ति के बारे में पता चले जो sucide करना चाहता है या ऐसे symptoms show कर रहा है तो उसे ये लेख अवश्य पढने को कहें. तो आइये देखते हैं क्या कहा ओशो ने:

Suicide करना है तो हमेशा के लिए करो-Osho

व्यक्ति : मैं आत्महत्या करना चाहता हूँ .

Osho: तो  पहले  संन्यास  ले  लो . और  तुम्हे  आत्महत्या  करने  की  ज़रुरत  नहीं  पड़ेगी , क्योंकि  संन्यास   लेने  से  बढ़  कर  कोई  आत्महत्या  नही  है . और  किसी  को  आत्महत्या  क्यों  करनी  चाहिए ? मौत  तो  खुद  बखुद  आ  रही  है —तुम  इतनी  जल्दबाजी  में  क्यों  हो ? मौत  आएगी , वो  हमेशा  आती  है . तुम्हारे  ना  चाहते  हुए  भी   वो  आती  है . तुम्हे  उसे  जाकर  मिलने  की  ज़रुरत  नहीं  है , वो  अपने  आप  आ  जाती  है .पर  तुम  अपने  जीवन  को  बुरी  तरह  से  miss करोगे .  तुम  क्रोध , या  चिंता  की  वजह  से  suicide करना  चाहते  हो . मैं  तुम्हे   real suicide सिखाऊंगा . एक  सन्यासी  बन  जाओ .

और  ordinary suicide करने  से  कुछ  ख़ास  नहीं  होने  वाला  है . , आप  तुरंत  ही  किसी  और  कोख  में  कहीं  और  पैदा  हो  जाओगे . कुछ  बेवकूफ  लोग  कहीं  प्यार  कर  रहे  होंगे , याद  रखो ..तुम  फिर  फंस  जाओगे .. तुम  इतनी  आसानी  से  नहीं  निकल  सकते —बौहुत   सारे  बेवकूफ  हैं . इस शरीर से  निकलने  से  पहले  तुम  किसी   और  जाल  में  फंस  जाओगे . और  एक  बार  फिर  तुम्हे  school., college , university जाना  पड़ेगा - जरा  उसके  बारे  में  सोचो . उन  सभी  कष्ट  भरे  अनुभवों  के  बारे  में  सोचो — वो  तुम्हे  sucide करने  से  रोकेगा .

तुम  जानते  हो , Indians इतनी  आसानी  से  suicide नहीं  करते , क्योंकि  वो  जानते  हैं  कि  वो  फिर  पैदा  हो  जायेंगे , West में  suicide और  suicidal ideas exist करते  हैं ; बहुत  लोग  suicide करते  हैं , और  psychoanalyst कहते  हैं  कि  बहुत  कम  लोग  होते  हैं  जो  ऐसा  करने  का  नहीं  सोचते  हैं .  दरअसल  एक  आदमी  ने  investigate कर  के  कुछ  data इकठ्ठा  किया  था , और  उसका  कहना  है  कि - हर  एक  व्यक्ति  अपने  जीवन  में  कम  से  कम 4 बार  suicide करने  को  सोचता  है . पर  ये  West की  बात  है , East में  , चूँकि  लोग  पुनर्जन्म  के  बारे  में  जानते  हैं  इसलिए  कोई  suicide नहीं  करना  चाहता  है - फायदा  क्या  है ? तुम  एक  दरवाज़े  से  निकलते  हो  और  किसी  और  दरवाजे  से  फिर  अन्दर  आ  जाते  हो .  तुम  इतनी  आसानी  से  नहीं  जा  सकते .

मैं  तुम्हे  असली  आत्महत्या  करना  सिखाऊंगा , तुम  हमेशा  के  लिए  जा  सकते  हो . इसी  का  मतलब  है  बुद्ध  बनना - हमेशा  के  लिए  चले  जाना .

तुम  suicide क्यों  करना  चाहते  हो ? शायद  तुम  जैसा  चाहते  थे  life वैसी  नहीं  चल  रही  है ? पर  तुम  ज़िन्दगी  पर  अपना  तरीका , अपनी  इच्छा  थोपने  वाले  होते  कौन  हो ? हो  सकता  है  तुम्हारी  इच्छाएं  पूरी  ना हुई  हों ?  तो  खुद  को  क्यों  ख़तम  करते  हो  अपनी  इच्छाओं  को  ख़तम  करो .हो  सकता  है  तुम्हारी  expectations पूरी  ना  हुई  हों , और  तुम  frustrated feel कर  रहे  हो . जब  इंसान  frustration में  होता  है  तो  वो  destroy करना  चाहता  है . और  तब केवल  दो संभावनाएं  होती  हैं —या  तो  किसी  और  को  मारो  या  खुद  को . किसी  और  को  मारना  खतरनाक  है  , इसलिए  लोग  खुद  को  मारने का  सोचने  लगते  हैं . लेकिन  ये  भी  तो  एक  murder है !!  तो  क्यों  ना  ज़िन्दगी को  ख़तम  करने  की  बजाये  उसे  बदल  दें !!!

—————————————————–

यदि आपके पास English या Hindi में कोई article,  news; inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:achhikhabar@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

49 thoughts on “Suicide करना है तो हमेशा के लिए करो-Osho

  1. ashutosh

    Maine aisa kai bar karne ko socha tha but Maine ek bat hmesha yad rakha jise mere ek dost ne btaya tha Ki jitna dard ek jinda aadmi ko jalane par hota h usse bhi jyada dard tab hota h jab ek maa apne baby ko janm deti h to jara sochiye usi bacche ka suicide karne par maa ko kitna dard hoga.

    Reply
  2. ashutosh mishra

    ham ek body nahi hai .ham ek aatma[light]hai.ham is body ko sanchalit karte hai.hamare anukul jab koi kam nani hota hai to ham esha chorna chhathe hai.islia hamesaha aapni sunia.

    THANKS

    Reply
  3. apeksha sharma

    thank u……..jb bhi mai pareshan hoti hu to mai osho k bare mai padti hu or muje jine ki nai kala milti hai………

    Reply
  4. jogunder shku

    GURU JI AAPKA NAAM TO BAHUT SUNA H,PR AAJ AAPKO LIKHNE KAA PAHLI BAAR MOUKA MILA H
    MERI EK SAMYSA H,MUJHE AKELE ME DER LAGTA H ,GHABRAHT HOTI H,RAAT KO KAHI JAANE ME GHABRAHT HOTI H
    SMADHAN KRE
    CHARN VANDAN

    Reply
  5. Umesh Dahal

    aap ne muje new patha chunne ki liye rasta diya me bahut khus hu kiuki maine aap jasya guru paya i love god rajnish osho.

    Reply
  6. deepak sharma

    really i can’t explane any story . it”s always amazing for me .it’s really great .thanks a lot of thanks…….

    Reply
  7. Nisha patel

    Thanx osho me aaj suside karne ke tarike dhundh rahi thi lekin aapka ye lekh padha to meri soch hi badal gayo thanx a lot osho

    Reply
  8. sanju

    bus zindgi jina ka tu ek bahana nikla, sari duniya anjan nikli bus tu ek jana pahchana nikla………. Osho jine ka sar……………

    Reply
  9. alfazazad(gurvinder)

    wow nice super ;) magar main yeh khena chahta hu k main kafi arse se west main rehta hu india ko shode hue bhut saal hogae ab main west ka hogea hu,maine jo samja yaha reh kar aur india main reh kar woh yeh hai west main log suicide jayada karte hai kyu k jayadatar nastik hai swarg ko nahi mante,humare india main sabhi bhagwan ko mante islie jayadatar sochte nahi hai suicide ke bhare main aur humare logo adat dal lete dard main jeene main sabhi bhagwan karta yeh kehkar waqt bitalete hai ;) ilove this sites ;) and this articles .

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>