Category Archives: Self Improvement

Life is easy….ज़िन्दगी आसान है !

Posted on by

 कुछ दिनों पहले मैं बस यूँ ही कुछ Ted Talks Youtube पर देख रहा था . Ted Talks में आप हर तरह के topics पर interesting talks देख सकते हैं . ऐसे ही देखते -देखते मेरी नज़र एक video पर पड़ी जिसका title था “Life is easy” , title interesting था , मैंने तुरंत उसे play कर […]

आप जो करना चाहते हैं वो हो सकता है…

Posted on by

मेरे  लिए  साल  की  दूसरी  post लिखना  हमेशा  थोड़ा challenging होता  है , पहली  में  तो  clarity रहती  है  कि  आप  सभी  को  New Year wish करना  है  , पर  अगली  पोस्ट  क्या  हो  इस  पर  थोड़ा  सोचना  पड़ता  है . मेरी कोशिश  यही  रहती  है  कि  अपनी दूसरी पोस्ट में  किसी  कहानी  या  quotes […]

पुरानी कहावतों को चरितार्थ करती 2014 की 11 बड़ी घटनाएं

Posted on by

2104 ख़त्म होने को है , उम्मीद करता हूँ ये साल आपके लिए अच्छा रहा होगा और साथ ही ईश्वर से कामना करता हूँ कि आने वाला साल आप सबकी life में ढेर सारी खुशियां लेकर आये . Friends, हम सब पुरानी कहावतों , लोकोक्तियों और मुहावरों का प्रयोग करते रहते हैं ( for simplicity […]

क्या है ज़िन्दगी का सबसे बड़ा अफ़सोस ?

Posted on by

हाल ही में मैं एक post पढ़ रहा था Top 5 Regrets Of The Dying इसमें Bronnie Ware ने कुछ बड़ी ही important बातें share की हैं . Bronnie पेशे से एक nurse थीं , और उनका काम ऐसे लोगों की देख -भाल करना था जो मौत के बहुत करीब हों . वे बहुत से patients के आखिर […]

गांधी जी से सीखें टाइम मैनेजमेंट

Posted on by

महात्मा गांधी विश्व की महानतम हस्तियों में से एक हैं । उनकी आत्मकथा ” सत्य के प्रयोग ” विश्व की सबसे अधिक पढ़े जाने वाली आत्मकथाओं में है। गांधी जी का प्रेरणादायी जीवन हमें बहुत कुछ सीखाता है और उन्ही में से एक महत्त्वपूर्ण बात जो हम सीख सकते हैं वो है समय प्रबंधन या […]

चलिए एक रावण हम भी मारें …

Posted on by

आज विजयादशमी है ,  शुभकामनाएं ! आज ही के दिन भगवान श्री राम ने रावण का वध किया था , इस दिन को हम बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में भी मनाते हैं । Friends, स्वदेश movie में एक गाना है “पल पल है भारी …”, इसी के अंत में कुछ lines हैं जो […]

दुनिया में अच्छाई अधिक है या बुराई ?

Posted on by

कुछ दिनों पहले मैं महात्रिया रा जी की किताब “अप्रेषित पत्र” पढ़ रहा था , मुझे ये किताब बहुत अच्छी लगी , और आज इसी किताब से प्रेरणा लेते हुए मैं आपसे अपनी कुछ thoughts share करना चाहता हूँ। एक सवाल से शुरू करते हैं ? दुनिया में अच्छाई अधिक है या बुराई ? . […]

सपने ऐसे देखो, जो सोने न दें

Posted on by

सपने वे नहीं होते, जो सोते समय दिखते हों, बल्कि सपने तो वे होते हैं, जो इंसान को सोने न दे। सोते समय देखा जाने वाला सपना तो हमें याद भी नहीं रहता। पर जो सपने जागी आंखों से देखे जाते हैं, वे न केवल हमें याद रहते हैं, बल्कि वे हमें सोने ही नहीं […]

विचारों की शक्ति

Posted on by

हमारी सकारात्मक सोच, सकारात्मक संवाद और सकारात्मक कार्यों का असर हमें सफलता की ओर अग्रसर करते हैं। वहीं निराशा तथा नकारात्मक संवाद व्यक्ति को अवसाद में ले जाते हैं क्योंकि विचारों में बहुत शक्ति होती है। हम क्या सोचते हैं, इस बात का हमारे जीवन पर बहुत गहरा असर होता है। इसीलिए अक्सर निराशा के क्षणों में मनोवैज्ञानिक […]

आपका आनंद ही आपका नैसर्गिक गुण है !

Posted on by

जीवन की कोई निश्चित परिभाषा नहीं है। कायरों ने इसे परेशानियों से भरा महासागर करार दिया है तो वीरों ने इसे अवसरों का खजाना कहा है, संतों ने इसे मोक्ष का मार्ग कहा है तो सांसारिकों ने इसे भोग का अवसर बताया है, विद्वानों को यह अनुभव की खान मालूम हुयी है तो मूर्खों को […]