अंधा घोड़ा

Posted on by
Motivational Hindi Story

God Is There For Your Help

अंधा घोड़ा 

शहर के नज़दीक बने एक farm house में दो घोड़े रहते थे. दूर से देखने पर वो दोनों बिलकुल एक जैसे दीखते थे , पर पास जाने पर पता चलता था कि उनमे से एक घोड़ा अँधा है. पर अंधे होने के बावजूद farm के मालिक ने उसे वहां से निकाला नहीं था बल्कि उसे और भी अधिक सुरक्षा और आराम के साथ रखा था. अगर कोई थोडा और ध्यान देता तो उसे ये भी पता चलता कि मालिक ने दूसरे घोड़े के गले में एक घंटी बाँध रखी थी, जिसकी आवाज़ सुनकर अँधा घोड़ा उसके पास पहुंच जाता और उसके पीछे-पीछे बाड़े में घूमता. घंटी वाला घोड़ा भी अपने अंधे मित्र की परेशानी समझता, वह बीच-बीच में पीछे मुड़कर देखता और इस बात को सुनिश्चित करता कि कहीं वो रास्ते से भटक ना जाए. वह ये भी सुनिश्चित करता कि उसका मित्र सुरक्षित; वापस अपने स्थान  पर पहुच जाए, और उसके बाद ही वो अपनी जगह की ओर बढ़ता.

दोस्तों, बाड़े के मालिक की तरह ही भगवान हमें बस इसलिए नहीं छोड़ देते कि हमारे अन्दर कोई दोष या कमियां हैं.  वो हमारा ख्याल रखते हैं और हमें जब भी ज़रुरत होती है तो किसी ना किसी को हमारी मदद के लिए भेज देते हैं. कभी-कभी हम वो अंधे घोड़े होते हैं, जो भगवान द्वारा बांधी गयी घंटी की मदद से अपनी परेशानियों से पार पाते हैं तो कभी हम अपने गले में बंधी घंटी द्वारा दूसरों को रास्ता दिखाने के काम आते हैं.

————————————————

Note: The inspirational story shared here is not my original creation, I have read it before and I am just providing the Hindi version of the same.

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:achhikhabar@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

37 thoughts on “अंधा घोड़ा

  1. Abhishek Pandey

    aapki sari story mujhe bahut achhi lagti hai. aapki sari kahanio se hame bahut kuchh sikhane ko bhi mila jiske liye achhikhabar ki team ko salam
    aap bhi hum jaise “AANDHE GHODO” ke liye apki inspirational or motivational kahaniyo wali “GHANTI” hme raassta dekhti hai. THANK YOU SIR
    aapki artikal hme bhut pasand h. THANKS

    Reply
  2. Raunaq Fahad

    बहुत सुंदर स्टोरी है यह । पढ़कर अनेक अच्छा लगा । – रौनक़, बांग्लादेश

    Reply
  3. Prashant.

    Har rista hume kuchh na kuchh sikhata hai har rista hamare janm lene pe hume milta hai bt ye dosti ka rista hota hai jise hum chunte hai jo hamara hota aur is riste ko nibhana aasan nahi hota hai bt ise nibha liya to usase bada aur koi rista nahi hota hai.

    Reply
  4. radhey maurya

    aapki sari story mujhe bahut achhi lagti hai. aapki sari kahanio se hame bahut kuchh sikhane ko bhi mila jiske liye achhikhabar ki team ko salam

    Reply
  5. Ronak Nadiyana

    aap bhi hum jaise “AANDHE GHODO” ke liye apki inspirational or motivational kahaniyo wali “GHANTI” hme raassta dekhti hai. THANK YOU SIR.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>