How to get pregnant in Hindi ? गर्भधारण करने का सही तरीका

Posted on by

 

How to get pregnant in Hindi?

क्या आप जानते हैं भारत में Google पर सबसे ज्यादा search  की जाने वाली  “How to” query  क्या है?

यह जानने के लिए  मैंने थोड़ी research  की तो पता चला कि ” How to get pregnant ? ” or ” How can I get pregnant ?  भारत में खोजे जाने वाली नम्बर वन ” How to”   query  है.  इसका यह मतलब है कि भले भारत दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आबादी वाला देश हो पर लाखों लोग इस बात कि जानकारी ठीक से नहीं रखते कि आखिर बच्चा  पैदा करने में क्या-क्या सावधानियां रखीं जायें . इसकी एक बड़ी वजह यह भी है कि हमारे समाज में sex  और उससे संबधित बातों के बारे में बोलना-सुनना बुरा माना जाता है. और सही जानकारी ना मिल पाने के कारण लोगों को परेशानी उठानी पड़ती है.

दुर्भाग्यवश इन्टरनेट पर भी इस विषय पर खोजने पर प्रेगनेंसी पर कुछ अच्छा लेख मिलने की बजाये Hindi sex stories मिलती हैं इसलिए आज मैं  AchhiKhabar.Com  पर ” How to get pregnantHindi में  share कर रहा हूँ ,ताकि खोजने वालों को एक अच्छी जानकारी  मिल सके.

Friends, यहाँ दी गयी जानकारी मैंने विभिन्न websites से collect  की है जहाँ expert doctors  ने गर्भावास्ता से  related  बातें बतायीं हैं. मेरा मानना है कि यह जानकारी आपके लिए काफी उपयुक्त  है  पर फिर भी आप किसी भी बात पर अमल करने से पहले यदि अपने  doctor  से   concern  कर लें तो बेहतर होगा .

HOW TO GET PREGNANT IN HINDI  ?

गर्भवती कैसे बनें ?

पहले आपको Pregnancy  से  related  कुछ  facts  बता देता हूँ:

  • जितने भी लोग बच्चा पैदा करना चाहते हैं , उनमे से लगभग  85%  लोग एक साल के अन्दर ऐसा करने में सफल हो जाते हैं. जिसमे से 22 % लोग तो पहले महीने के अन्दर ही सफल हो जाते हैं. यदि एक साल तक प्रयास करने पर भी बच्चा ना हो तो यह समस्य का विषय हो सकता है , और ऐसे  couples  को  infertile  समझा जाता हैं.
  • बच्चा पैदा होने के लिए couples  के बीच सेक्स(सम्भोग /intercourse)  का होना अनिवार्य है. और इसके दौरान पुरुष का penis  (लिंग)  इस्त्री के  vagina (योनी)  में जाना चाहिए और  उसे  इस्त्री के vagina  में sperm ( शुक्राणु ) छोड़ने होंगे , जिससे sperm ,uterus(गर्भाशय) के मुख के पास इकठ्ठा हो जायेगा. यह प्रक्रिया सेक्स के दौरान स्वत: ही हो जाती  है , इसलिए इसकी चिंता करने की कोई ज़रुरत नहीं है.
  • इसके आलावा सम्भोग  ovaluation  के समय के आस-पास होना चाहिए. Ovaluation एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे महिलाओं के Ovary (अंडाशय ) से egg ( अंडे) निकलते हैं.Ovulation menstruation cycle(MC) यानि मासिक धर्म चक्र का पार्ट होता है, जो कि MC  के चौदहवें दिन, जब bleeding start  हो जाती है तब शुरू होता है.

बच्चा पैदा करने के लिए महिलाओं में सेक्स के दौरान orgasm  होना अनिवार्य नहीं है. Doctors  का कहना है कि दरअसल fallopian tube  जो कि अंडे को ovary से  uterus तक ले जाता है , sperm  को अपने अन्दर खींच ले जाता है और उसे egg  से मिलाने की कोशिश करता है. और इसके लिए महिलाओं में orgasm  का आना जरूरी नहीं है.

Female Anatomy

 

9 Tips to get pregnant in Hindi :

1) Doctor  से जांच कराएं :

बच्चे कि  planning  करने से पहले डॉक्टर से सलाह ले लेना और अपनी जांच करा लेना चाहिए . इससे यह पता चल जायगा कि आपको किसी तरह कि शारीरिक परेशानी तो नहीं है , या कोई infection वगैरह. इससे sexually transmitted disease होने की सम्भावना ख़तम हो जाएगी. साथ ही अगर डिम्बग्रंथि अल्सर, फाइब्रॉएड, endometriosis, गर्भाशय के अस्तर की सूजन जैसे परेशानियों की भी जांच हो जाएगी.

2) Ovulation के समय के आस-पास  sex  करें

Gynecologists  का मानना है कि बच्चा पैदा करने के लिए  इस्त्री के eggs  ovary  से निकलने के  24  घंटे के अन्दर ही fertilize  होने चाहियें.  आदमी के  sperms  औरत के reproductive tract  (प्रजनन पथ)  में 48 से  72  घंटे तक ही जीवित रह सकते हैं. चूँकि बच्चा पैदा करने के लिए आवश्यक embryo (भ्रूण ) egg  और  sperm  के मिलन से ही बनता है , इसलिए couples  को ovulation  के दौरान कम से कम 72  घंटे में एक  बार ज़रूर sex  करना चाहिए और इस दौरान पुरुष को इस्त्री के ऊपर होना चाहिए ताकि sperms के leakage की सम्भावना कम हो. साथ ही पुरुषों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वो  48  घंटे में   एक बार से ज्यादा ना ejaculate  करें  वरना उनका sperm count  काफी नीचे जा सकता है , जो हो सकता है कि egg  जो fertilize  करने में पर्याप्त ना हो.

 Ovulation का  समय कैसे पता  करें ?

Ovulation  का समय पता करने का अर्थ है उस समय का पता करना जब ovaries  से fertilization  के लिए तैयार  egg  निकले. इसे जानने के लिए आपको अपने period-cycle (मासिक-धर्म) का अंदाजा होना चाहिए. यह 24  से  40 दिन के बीच हो सकता है.  अब यदि आप को अपने next period  के आने का अंदाजा है तो आप उससे 12 से 16  दिन पहले का समय पता कर लीजिये , यही आपका  ovulation का समय होगा .

For Example:   यदि period  की शुरुआत 30  तारीख को होनी है तो  14  से 18  तारिख का समय ovulation  का समय होगा.

बच्चा पैदा करने के लिए उपयुक्त समय का पता करने का एक और तरीका है :

Vagina से निकलने वाले चिपचिपे तरल को अपने ऊँगली पर लीजिये और उसकी elasticity check  कीजिये, जब ये अधिक और देर तक लचीला रहे तो समझ जाइये कि ovulation हुआ है और अब आप बच्चा पैदा करने के लिए सम्भोग कर सकते हैं.

3) एक  healthy lifestyle बनाए रखें.

बच्चा पैदा करने के chances  बढ़ाने के लिए बेहद आवश्यक है कि  पति-पत्नी  एक स्वस्थ्य- जीवनशैली बनाये रखें. इससे   होने वाली संतान भी अच्छी होगी. खाने – पीने में पर्याप्त भोजन और फल की मात्रा रखें . Vitamins  कि सही मात्र से पुरुष-स्त्री दोनों की  fertility rate  बढती है .रोजाना व्यायाम करने से भी फायदा होता है.

सिगरेट पीने वाली महिलाओं में conceive  करने के chances   40 % तक घट जाते हैं

4) Stress-free (तनाव-मुक्त) रहने का प्रयास करें:

इसमें कोई शक नहीं है कि अत्यधिक तनाव आपके reproductive function  में बाधा डालेगा. तनाव से कामेक्षा ख़तम हो सकती है , और extreme conditions  में स्त्रियों में  menstruation  कि प्रक्रिया को रोक सकती है. एक शांत मन आपके शरीर पर अच्छा प्रभाव डालता है और आपके pregnant  होने की सम्भावना को बढ़ता है. इसके लिए आप regularly  breathing- exercises और  relaxation techniques  का प्रयोग कर सकती हैं.

5) Testicles  (अंडकोष)को ज्यादा heat  से बचाएँ :

यदि sperms  ज्यादा तापमान में expose  हो जायें तो वो मृत हो सकते हैं. इसीलिए testicles (जहाँ sperms  का निर्माण होता है)  body  के बहार होते हैं ताकि वो ठंढे रह सकें.  गाड़ी चलते समय ऐसे beaded सीट का प्रयोग करें जिसमे से थोड़ी हवा पास हो सके. और बहुत ज्यादा गरम पानी से इस अंग को ना धोएं .वैसे आम तौर पर इतना अधिक  precaution  लेने की ज़रुरत नहीं है पर जो लोग आग की भट्टी या किसी गरम स्थान पर देर तक काम करते हैं उन्हें सावधान रहने की ज़रुरत है. X-Ray technicians को हमेशा lead coat पहन कर काम करना चाहिए अन्यथा बच्चे में जन्मजात विसंगतियां हो सकती हैं.

6) सेक्स के बाद थोड़ी देर आराम करें:

सेक्स के बाद थोड़ी देर लेटे रहने से महिलाओं कि योनी से sperms  के निकलने के chances नहीं  रहते. इसलिए  सेक्स के बाद 15-20 मिनट लेटे रहना ठीक रहता है.

7)  किसी तरह का नशा ना करे:

ड्रग्स , नशीली दवाओं, सिगरेट या शराब के सेवन आदमी-औरत , दोनों के  hormones  का संतुलन बिगड़ सकता है. और आपकी प्रजनन क्षमता को बुरी तरह  प्रभावित कर सकता है.और बच्चों में भी  जन्मजात विसंगतियां हो सकती हैं.

8)  दवाओं का प्रयोग कम से कम करें :

कई दवाइयां , यहाँ तक कि आराम से मिल जाने वाली आम दवाइयां भी आपकी fertility  पर बुरा प्रभाव डाल सकती हैं.कई चीजें ovulation  को रोक सकती हैं , इसलिए दवाओं का उपयोग कम से कम करें. बेहतर होगा कि आप किसी भी दावा को लेने या छोड़ने से पहले डॉक्टर से सलाह ले लें.खुद अपना इलाज करना घातक हो सकता है, ऐसा risk  ना लें.

9) Lubricants को avoid करें: 

Vagina  को  lubricate  में प्रयोग होने वाले कुछ ज़ेल्स, तरल पदार्थ , इत्यादि sperms  को महिलाओं की reproductive tract  में travel  करने में बाधक हो सकते हैं. इसलिए इनका प्रयोग अपने डाक्टर से पूछ कर ही करें.वैसे किसी artificial lubricant  का प्रयोग करने की आवश्यकता ही नहीं है, क्योंकि orgasm के दौरान शरीर खुद ही पर्याप्त मात्रा में liquid produce करता है जो sperm और  ova  दोनों के लिए healthy होता है.

उम्मीद है आपको इस जानकारी से लाभ मिलेगा.Thanks.

Recommended Articles on Pregnancy in Hindi:

 Related article in Hindi on wikipedia.

———————————————————————————————

I am grateful to Dr. Kamal Kishore , Max Healthcare, for reviewing this article and giving his invaluable inputs. Thanks a lot Sir.

निवेदन : कृपया अपने comments के through बताएं कि “How to get pregnant in Hindi language” article आपको कैसा लगा. और यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगी हो तो कृपया अपने दोस्तों के ज़रूर share करें.

Please DO NOT ASK for any suggestions from me, as I am not a Doctor

and

Kindly don’t put any obscene  comment as the same will not be approved.

 

187 thoughts on “How to get pregnant in Hindi ? गर्भधारण करने का सही तरीका

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>